Sunday, January 13, 2013

136 साल की उम्र में हसनो ने ली दुनिया से विदा

अब अफ़गानिस्तान में विश्व की सबसे वयोवृद्ध महिला का देहांत
                                     © Flickr.com/daoro/cc-by
वयोवृद्ध उम्र के दावे पहले भी होते रहे हैं। अब समाचार सामने आया है अफगानिस्तान का जहां विश्व की सबसे अधिक वयोवृद्ध उम्र की महिला का देहांत हो गया है। गौरतलब है कि इससे पूर्व भी ऐसे समाचार आते रहे हैं। कुछ ही समय पूर्व भी इसी तरह की खबर आई थी कि जापान में संसार की सबसे अधिक उम्र की महिला का देहांत हो गया है| इस खबर के मुताबिक कोतो ओकुबो नाम की यह महिला 115 वर्ष की थी अपने आखिरी दिनों में कावासाकी नगर के वृद्धाश्रम में रह रही थीं| पिछले साल 17 दिसंबर को अमरीका में 115 वर्षीया डायना मैनफ्रेडीनी की मृत्यु के बाद ओकुबो को संसार की सबसे वयोवृद्ध महिला माना गया था| डायना उनसे 264 दिन बड़ी थीं|
      इसी तरह जब जार्जिया के पश्चिम में स्थित साचिनो गांव में रह रही अन्तिसा ह्विचावा नाम की महिला का देहांत हुआ तो उस समय भी यही कहा गया कि अब दुनिया की वयोव्र्द्ध महिला इस संसार में नहीं रहीं| ख़बरों के मुताबिक वह इस देश की, और कुछ आंकड़ों के अनुसार तो, संसार की सबसे वयोवृद्ध महिला थीं| गत जुलाई में वह 132 वर्ष की हुई थीं| उन्हें उनके गांव में ही दफनाया गया है| हजारों लोगों ने उन्हें अंतिम विदाई दी| इनमें उनके सगे-संबंधी, परिचित, गांववासी और आस-पड़ोस के गाँवों के लोग भी थे| अजीब इत्तफाक है कि जब उसका देहांत हुआ तो जार्जिया में  चुनाव-आदि की घटनाओं के कारण इस सबसे वयोवृद्ध महिला के निधन के समाचार की ओर स्थानीय संचार साधनों का समय से ध्यान ही नहीं गया| इसी कारण मृत्यु के कुछ दिन बाद ही इसकी खबर दुनिया में को  लग सकी। अब फिर एक वयोवृद्ध महिला के देहांत की खबर सामने आई है। 
      इससे पहले समझा जाता था कि विश्व की सबसे वयोवृद्ध महिला फ्रांस में रहती थीं। जॉना कल्मान नाम की इस महिला का सन् 1997 में 122 साल की उम्र में निधन हो गया था।  
     रेडियो रूस ने इस बार भी इस दिलचस्प खबर को प्रमुखता से उचित स्थान दिया है। रेडियो रूस के मुताबिक अफ़गानिस्तान में विश्व की सबसे वयोवृद्ध महिला हसनो का 136 साल की उम्र में निधन हो गया है। समाचार एजेंसी पजवाक की एक ख़बर के अनुसार, वर्दाक प्रांत के गवर्नर के प्रेस सचिव शहीदुल्ला शहीद ने, जो इस महिला के पोता हैं, बताया कि इस महिला के शव को शनिवार को नंगरहार प्रांत के एक गाँव में सपुर्दे-ख़ाक किया गया। शहीदुल्ला शहीद ने यह भी बताया कि इतनी बड़ी उम्र के बावजूद हसनो नमाज़ पढ़ने से पहले खुद ही स्नान कर लेती थीं।
136 साल की उम्र में हसनो ने ली दुनिया से विदा 
(रेडियो रूस से साभार       
अब अफ़गानिस्तान में विश्व की सबसे वयोवृद्ध महिला का देहांत
(13.01.2013, 13:51)

No comments:

Post a Comment